Skip to main content

बंजारे दिन

बंजारे दिन घूम घूम औज़ार बनाते हैं ।

बच्चों को लकड़ी के घोड़े ,लकड़फोड़ को कुल्हाड़ी।
चिमटा ,कलछी ,चाकू ,हंसिया ,जो चाहे आंगन-बाड़ी।
तवा बनाते हैं ,कैंची में धार लगाते हैं ।
बंजारे दिन....

सुबह सुहानी ,शाम नशीली ,उनके भी डेरे आती ।
छौंकी हुई रात गुदड़ी पर सपनों को घेरे लाती।
भोर-पंखेरू उन्हें राग-मल्हार सुनाते हैं ।
बंजारे दिन....

सड़कें ,रौनक ,महल ,मंडियां , साख तुम्हारी हैं।
वे चल दिए बुझाकर चूल्हे ,राख तुम्हारी है ।
वे कब किसकी धरती पर अधिकार जताते हैं ?
बंजारे दिन....
26050923.

Comments

na keval sahityik star par, na keval saanskritik star par aur na keval raashtreeya star par......balki MAANVEEYA STAR PAR AUR AATMIK STAR PAR BHI UMDA RACHNA...
hardik badhaiyan
Dr.R.Ramkumar said…
प्रिय भाई अलबेला जी,
आप जिस आतमीयता और निरंतरता के साथ मुझे पढ़ रहे हैं और अपने कमेंट्स दे रहे है वह रोमांचक है और प्रेरणास्प्रद भी । विधताआंे के साथ असपकी अपनी समर्थ अभिव्यक्तियां विविध माध्यमों से मनोरंजन और विचार संप्रेषित कर रही हैं । आपके हास्य व्यंग्य की सहज शैलियां न केवल गुदगुदाती है वरन प्रतिक्रिया के लिए मीठी चिकौटियां भी काटती हैं।
बहुत बार आपके साइट पर जाकर बाक्स में संदेश भेजना चाहा पर सफल नहीं हुआ तो अपने ही साइट से संदेश दे रहा हूं ।
आपका बहुत आभार कि आपने मुझे पढ़ा और सराहा।
आपका
डाॅ. रा. रामकुमार ,
क्बीर वीथिका ,सिवनी रोड ,नैनपुर
http://dr.ramkumarramarya.blogspot/
Anonymous said…
उफ़..
यह गीत...कैसे बताऊं इसने बहुत दिनों बाद जैसे आत्मा को झकझोर दिया है...
हाथ पोस्टर बनाने को मचल रहे है..ऐसा लगता है कि क्या करूं और यह गीत श्रम के हरावल दस्तों तक तुरंत पहुंच जाए...

पहली बार बधाई बगैरा कहने की जरूरत महसूस ही नहीं हो रही...अभिभूत हूं.
Dr.R.Ramkumar said…
vah bhai ....
aaur apse chata bhi kya tha.....dil tak hi to ana chata tha....
ab main bechain hoo ki kab apka poster dekhoon ..
idhar net kharab hi rahta hai..poori district
pareshan hai...isliye e mail par khabar kar den.
ab aapka bhi kya kahoon ...
atmeeyta ke sath
Dr. R. Ramarya.

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…