Skip to main content

चिकनी खाल के रसीले रहस्य

नींऊंड़ा ,नींमुड़ा ,नींबुड़ा:
चिकनी खाल के रसीले रहस्य

मेरे ख्याल से प्रातः-भ्रमण का स्वास्थ्य से चाहे जितना संबंध हो , मस्तिष्क से कहीं ज्यादा है। ताज़ा हवा में ताज़ा विचारों के साथ घूमते हुए ठंडी हवा कितना कुछ दे जाती है ,उसका पता सुबह-सुबह टहलकर घर लौटे हुए आदमी के चेहरे और उत्साह से चल जाता है।
मैं भी उस दिन अपने चेहरे पर उत्साह और विचारों का नये पतेवाला लिफ़ाफ़ा बनकर लौटा था। पत्नी बगिया में पानी दे रही थी । पत्नी को घेरकर मीठी-नीम , पोदीना ,मोंगरे , भटे , इकट्ठी दुृकट्ठी पत्तियोंवाला नगोड़ा नींबुड़ा यानी नीबू वगैरह खड़े थे। नीबू में भरपूर निंबोड़ियां झूल रही थी। ऐसे लग रह था जैसे पत्नी के माथे पर पसीने की चमकदार बूंदों से हंस-हंसकर कुछ बतिया रही हों। मैं कुतूहल के साथ बगिया में घुस गया और ठीक निंबुड़ियों की झूलती डाली के पास खड़ा हो गया । पत्नी ने चेतावनी दी:‘‘ सम्हलकर , नींबू में कांटे होते हैं।‘‘
मैं ठिठक गया। रसीली वनस्पतियों में कांटे ? मैं सोचने लगा कि और कौन कौन से फलदार पेड़ हैं जिनमें कांटे होते हैं! ऐसे फल जो मुझे पसंद है...और ऐसे फूल जो फूलों के राजा हैं.. और ऐसी सब्जियां जिनकी रोज रसोई पकती है और उन सबमें कांटे या कंटेदार रोयंे होते हैं। मुझे सोचता देख पत्नी ने टोका:‘‘ होने लगी कविता ,पकने लगा साहित्य.?’’
मैंने हंसकर कहा:‘‘ पकेगा जो भी ,तुम्हारे निंबुड़े के रस को निचोड़े बिना उनमें स्वाद तो आने से रहा ....लाओ दो एक निंबुड़ियां तोड़ लूं।’’
’’ नहीं ...अभी कच्ची हैं... रस नहीं पड़ा है.. ’’ पत्नी ने वर्जना की।
’’ तुम्हें कैसे पता कि रस नहीं हैं... आई मीन ..कैसे पता चलता है कि रस है या नहीं है ?’’ मैंने जिज्ञासा की।
पत्नी ने कहा:‘‘ नींबू की खाल देखो.. अभी खुरदुरी है... जब यह चिकनी होने लगे तो समझना चाहिए उसमें रस पड़ रहा है।’’
’’ अच्छा ! वनस्पतियां भी तभी रसीली होती हैं जब उनकी खाल चिकनी होती है ?’’ मेरे मुंह से निकल तो गया पर मैं सच कहता हूं यह अकस्मात् ,स्वभाववशात् हो गया था ,ऐसा कोई इरादा नहीं था । परन्तु पत्नी बिफर पड़ी:‘‘ सुबह सुबह तो दिमाग़ दुरुस्त रखा करो....कुछ भी कह जाते हो...जाओ चेंज करो , मैं चाय बनाकर लाती हूं।’’
मैंने सकपकाकर निंबुड़े की झूमती हुई डालियों को देखा और दिमाग में झूलते हुए विचारों को संभाले हुए कमरे में चला आया। यह भी अजीब संयोग था कि उसी दिन अखबार में पचपन-प्लस स्वप्नसंुदरी और चिरयौवना तारिका का संसदीय बयान छपा था:‘‘ मैं बिहार जाकर देखना चाहती हूं कि सड़कें मेरे गालों की तरह चिकनी हुई हैं या नहीं।’’
कहने की जरूरत नहीं है कि बुढ़ज्ञपे मंे भी ताज़गी की चमक से भरे ललिआए गालोंवाले एक भूतपूर्व बिहारी मुख्यमंत्री ने केन्द्रीयमंत्री के रूप में कभी कहा था कि वे बिहार की सड़को को स्वप्नसुंदरी के गालों की तरह चिकना बनाएंगे।’’ यह भी चिकनी परत वालों की रसीली चुटकी थी। तारिका सांसद का बयान भी रसीला था। पत्नी सही कहती है कि जब खाल चिकनी होती है तो उसमें रस पड़ने लगता है। दोनों राजनीति-जीवियों ने यह सिद्ध कर दिया है। हालांकि राजनीति कांटे बोने ,उगाने , बांटने और हटाने की जगह है , इसे सब जानते हैं। यह भी सबको पता है कि तारिकाओं के जीवन में पग-पगपर कांटे होते हैं। यही कांटें शायद उनके जीवन को रसीला बनाते हैं।
मनुष्य जिस प्रकृति का अंग वह प्रकृति अद्भुत है। कांटे हों या फूल...उनसे हमारे संघर्षों को बल मिलता है। इसीलिए हमारे आदर्शों में पुष्पवावटिका भी है और कंटीला वनवास भी। कांटेदार खट्टी मीठी बेरों से हमारे यहां आतिथ्य गौरवांवित होता है तो जंगली संजीवनी से पुनर्जीवन मिलता है। प्रकृति में बसंत भी होते हैं और पतझर भी। यह अद्भुत संयोग है कि बसंत में फूल खिलते हैं तो पेड़ नंगे हो जाते हैं।पत्ते झड़ जाते है। गर्मी जैसे जैसे तेज होती है तो पेड़ों पर भरपूर हरियाली छा जाती है। यानी कुदरत का कोई भी काम इकतरफा नहीं है....धूप है तो छांव भी है। कांटे हैं तो फूलों का राजा गुलाब भी है ,खुश्बू है। कांटे हैं तो नींबुड़ा में रस है ,चटखार है। इतना कुछ देने के बाद भी प्रकृति जीवंत कितनी है ? कांटे आते है तो खिली पड़ती है। फूलती है तो फलती भी है। विनम्र ऐसी कि फलने लगती है तो झुकी पड़ती है। जिन पेड़ों पर न फल हैं ,न फूल वे तने खड़े हैं। सागौन और सरई प्रशासनिक अधिकारी हैं ...उन्हें झुकाना जुर्म हैं ,उन्हें काटना जुूर्म। विलाश के मामलों में उनकी कटाई छंटाई सरकारी इजाजत के साथ की जा सकती है। फलदार वृक्ष तो आम आदमी है , जमीन से जुड़ा आदमी , सरल और सीधा आदमी... आम और अमरूद और सेव और संतरें और नीबू.... फले जा रहे हैं और झुके जा रहे हैं..... 2006 की एक ग़ज़ल का एक शेर ज़हन में उभरता है , जसे कुछ ऐसा है-
फलने लगता है तो झुक जाता है ,
पेड़ गर आदमी होता तो अकड़ जाता।
कुदरत और आदमी यहीं अलग हो जाते हैं। कुदरत झुकती है ,आदमी अकड़ता है। यूं तो आदमी प्रकृति का एक हिस्सा है। प्रकृति के अंदर आदमी है , आदमी के अंदर प्रकुति क्यों नहीं आती ?
नहीं नहीं ,आती तो है।प्रकृति कवियों के अंदर अनायास आती है। मेरे एक परिचित वयोवृद्ध कवि थे...स्व. केशव पांडे। धर्मयुग के कवि। इस्पात नगरी में एक कोमल आदमी... हंसी से भरा हुआ उनका चेहरा...। इस्पात भवन में हम प्रायः रोज मिलते थे। उन्हें हृदयाघात हो गया। पता नहीं जिनके हृदय कोमल होते हैं , प्रायः उन्हें हृदयाघात क्यों होता है ? केशव पांडे के कोमल हृदय में प्रकुति बसी हुई थी । एक दिन लंच में नीबू निचोड़ते हुए मुझे ऐ कविता सुनाई थी....
मित्र !
ये अफसर , ये नेता
हमें नीबू सा निचोड़ लेते हैं
दोपहर के भेजन में ।
मैं बस अवाक्। न आह भर सका ,न वाह कर सका। वे अनुभवी थे। कविता के प्रभाव को जानते थे । मुस्कुराकर बोले:‘‘ इसी में तो मजा है। मित्र , हम अपने को निचोड़कर अपना लंच स्वादिस्ट बनाते हैं ...चलो लंच करें।’’
तबसे मैं देख रहा हूं कि रोज प्रकृति कवियों के अंदर घुसती है और कविता के गवाक्षों से झांकती है। आलेखांे में प्रकृति अपनी द्वंद्वात्मकता , अपना द्वैतवाद उलीच रही है..संभावनाओं को भी , विडम्बनाओं को भी। गीतों में ग़ज़लों में दर्द कराह रहे हैं तो जिन्दगी गुनगुना रही है। कहानियों में करुणा रिस रही है तो आनंद भी झर रहा है।नगमों में नजाकतें इठला रही हैं तो रसीली चटपटी नींबुड़ियां झूम रही है।
नहीं , नींबू मेरे ज़हन से अभी उतरा नहीं है। उसका दिमाग मे चढ़ गया है और वह मेरे सर पर चढ़ गया है। नशा बनकर। जबकि यही सरचढ़ा नींबू कइयों के नशे उतार देता है। यही नींबुड़ा स्वाद को बढ़ाता है तो घमंड को और मद को उतार देता है। गर्मी चढ़ी हो तो नींबू का पानी उतार दे। यह नींबुड़ा जीरा और संेधा नमक के साथ गठबंधनकर सर पर चढ़कर बेहाल कर देने वाली गैस को मिनटों में उतार देता है।
उतारने को तो नींबू भूत भी उतारता है ,और दीठ भी ,नजर भी। सर पर चढ़ी भावों की देवी भी नींबू का उतारा मांगती है। नई खरीदी हुई गाड़ी के पहिए के नीचे नींबू को कुचल दो तो गाड़ी की बलाएं उतर जाती हैं। अपने अस्तित्व को , अपने को निचोड़कर केवल नींबू यानी प्यार में पुकारा गया नींबूड़ा दूसरों की बलाएं उतारता है। यही नहीं भव्य भवनों , दूकानों के सामने मिर्ची के साथ लटके हुए नींबू को देखो...कितने मजे से उनकी चैकसी में पैबस्त हैं ,तैनात हैं।
नींबू के कारनामों और करामातों की फेहरिस्त लम्बी है। वह स्वस्थों को स्वस्थ रखता है तो बीमारों को स्वस्थ करता है। खाली पेट सुबह-सुबह लेने से चर्बी गलने लगती है ,मोटापा छंटता है , रक्त-संसचार सुधरता है , रक्त-चाप सामान्य होता है।
कुलमिलाकर नींबू एक जीवित कविता है ,जिसमें रस है और ऊर्जा भी। नींबू के एक गिलास पानी से मैंने कविता को नहाकर बाहर निकलते देखा है। मेरे मित्र की पत्नी ने बिस्तर पर पड़े हुए पति को नींबू पानी का गिलास थमाते हुए ताना मारा था:‘‘ दिन चढ़े तक ऐसे पड़े हैं जैसे रात मे चढ़ाकर सोये हों।’’
मित्र ने इत्मीनान से नींबू-पानी पिया और पत्नी का हाथ पकड़कर यह शेर सुनाया:
दांव खेला ही नहीं है , तो चुकारा क्यों हो ?
रात जब पी ही नहीं है , तो उतारा क्यों हो ?

चाय पीकर मैं चुपचाप नींबू के पौधे के पास खड़ा हो गया हूं। मैं उसकी बलाएं उतार रहा हूं और अपने सर ले रहा हूं। मुझे याद है कि लगातार चार सालों तक नींबू पर न फूल खिले , न फल आए। तब किसी ने टोटका दिया था कि इतवार बुधवार नींबू के पास खड़े होकर घुड़को कि इस बंझेड़े को काट डालूंगा..क्योंकि यह फलता फूलता ही नहीं। ऐसा एक दो बार कहने से वह फलेगा भी और फूलेगा भी। मैंने इस टोटके को आजमाकर देखने में कोई बुराई नहीं समझी ,क्योंकि इसमें अपना फायदा था। सचमुच नींबू उस घुड़की के बाद फूला भी और देखो कैसे झमाझम फल रहा है। किंतु , किसी कार्यालय में काम अटका हो ,कोई कोशिश फलीभूत न हो रही हो और ऐसे धमकाओ कि काट डालूंगा अगर इस बार काम नहीं हुआ तो। क्या काम फलीभूत होगा ? उलटे मुसीबत खड़ी हो जाएगी। रासुका लगेगा सो अलग। यह तो नींबू है जिसे धमकाने का बुरा नहीं लगता। जरूरतमंदांे के दर्द को वह समझता है।
आखिर मैंने ग्लानि और कृतज्ञता से कांटों की परवाह किये बिना ,नींबू के फलदार वृक्ष की टहनी को चूमा और कहा:‘‘ झूठी मूठी धमकी को दिल से मत लगाना यार ,जब निचोड़ूं तो निचुड़ जाना ।’’

डाॅ. रामार्य

Comments

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…