Skip to main content

माटी के पुतले 1


पूरे भारत में हिन्दू आस्था और विद्या की प्रतीक गजानन गणपति की मूर्तियों का विसर्जन किया जा चुका है। यह भाद्र मास था। अश्विन-मास के साथ ही पितृ मोक्ष पखवाड़ा प्रारंभ हुआ। पितृमोक्ष अमावस्या के देसरे दिन अष्विन शुक्ल की प्रतिपदा से शक्ति की प्रतीक देवी दुर्गा की प्रतिमाओं की प्राणप्रतिष्ठा और पूजन का होगा।

गणेश और दुर्गा की प्रतिमाओं का वृहदस्तर पर निर्माण किया जाता है। जो भी मृदाशिल्प में रुचि रखता है और इसमें पारंगत है वह व्यापारिक दृष्टि से मूर्तियों का निर्माण करता है और मांग के अनुसार उनका व्यापार करता है। रक्षाबंधन और दीपावली में उत्सब के अनुकूल राखियों और पटाखों का निर्माण अधिकांशतः मुस्लिम मतावलंबी करते हैं। मूर्तियों का निर्माण भी अनेक स्थानों में विभिन्न समुदायों के लोग करते हैं ,जिनमें मुस्लिम समुदाय के लोग भी हैं। इन दिनों मंदिर मस्जिद के तथाकथित विवादों और तनावों का चर्चा गर्म है। इसलिए ऐसे समाचार चित्र सहित अखबारों में आते रहते हैं।

मेरे शहर में पिछले बीस बाइस सालों से दो विविध कलाकार मूर्तियों का व्यवसाय कर रहें है। व्यावसायिक स्तर पर किये जाने के कारण और उसमें स्वरुचि का रंग होने से ये मूर्तियां विशिष्ट रंग-रूप में आकर्षण का केन्द्र होती हैं। मैं बहुत वर्षों से प्रभावित हो रहा हूं और स्वांतः सुखाय जो रस मिल रहा है उसे पर्याप्त मान रहा हूं। इस बार ऐसा लगा कि इसकी चर्चा अपने ब्लाग के माध्यम से की जाए। शायद शिल्प पे्रमियों को पसंद आए।
मेरे मन में ये सवाल थे: -
1. कैसे बनती हैं मूर्तियां ? 2. किन चीजों से बनती हैं ? 3. अपने प्रारंभिक निर्माण के दौरान कैसी दिखती हैं ? 4. कैसे धीरे धीरे विकसित होती हैं और कैसे रंग वस्त्र शस्त्र और श्रृंगार के बाद इनका रूप निखरता है ?
इन सवालों के जवाब ये मिले:-
आवश्यक सामान: 1. पैरा : धान की बालियां निकलने के बाद शेष सूखे पौधे , 2. घास , 3. भूसा: गेंहू के पौधे से बालियां निकालने के बाद उसका मिंजा हुआ अवशेष , 4. लकड़ी और पट्टे ,5. कीलें , 6. सुतली (पटसन) और नारियल-बूच की रस्सी , 7. बीड़ी की फट्टियां , 8. मिट्टी विशेष तौर पर बंजर के कछार से बुलवाई गई , 9. चाक मिट्टी , 10. रंग: सभी प्रकार के - फेब्रीकिल, आइल पेंट, वाटर कलर , फ्लोरोसेंट ,लेककलर इत्यादि, 11. कपड़े ,साड़ी, ब्लाउस ( मांग के अनुसार ) 12. पटसन और केले के रेशों के कलकतियां केश ,बाल , 13. टिन के पत्तरों , कार्क , सोलम्सेट ,केला और थर्मोकाल से बने अस्त्र-शस्त्र , मुकुट, श्रृंगार आदि , 14. स्वयं शिल्पकार अपने सहयोगियों श्रमिकों और पारिवारिक सदस्यांे सहित।
ये हैं कलाकार - 1. चक्रवर्ती परिवार :

चक्रवर्ती परिवार के सुभाष (55) और रेवा (45) प्रमुख रूप से अपने पुस्तैनी मिट्टी के काम को करते हुए इस शिल्प की तरफ बढ़े। पांच भाइयों के इस परिवार में ये दो मुख्य रूप से इस काम में जुड़े हुए हैं। 1960 से इनके पिता श्री हरिप्रसाद चक्रवर्ती भी मूर्ति का काम करते थे। पूरे परिवार के साथ इसे विस्तार देने का काम इन भाइयों ने किया।
चक्रवर्ती और प्रजापति आदि कुंभकार समुदाय के लोग हैं , जिनका मुख्य काम रसोई घर के लिए मिट्टी के भांड़े बनाना था। दीपावली के दीपक , पोला के घुड़ले, लक्ष्मी -महालक्ष्मी , होलिका , काली , सरस्वती आदि की मूर्तियां भी प्रारंभ में इसी समुदाय ने बनाई। बाद मे ंअन्य कलाकार भी इस तरफ़ आकर्षित हुए। सभी वर्ग के व्यापारी इनकी बनाई हुई गणेश की छोटी छोटी मूर्तियां दूकानों में बेचते हैं। अधिकांश घरों में छोटी मूर्तिया स्थापित करने का चलन हिन्दू परिवारों में है।
अन्य संप्रदाय के लोग भी गणपति रखा करते हैं। प्रायः सामूहिक तौर पर गणेश स्थापित किये जाते रहे हैं। स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में एकता के लिए प्रारंभ इस आंदोलन को शुरुआती दौर में सामूहिक रूप से ही आयोजित किया गया। बाद में व्यक्तिगत आस्था और सुरक्षा के तौर पर घरो में स्थापित किया जाने लगा। हालांकि भारत में हिन्दू-मुस्लिम एक्य के प्रतीक गणेशोेत्सव की अनेक कथाएं जीवित हैं।
दुर्गा अपेक्षाकृत वृहदस्तर पर सामूहिक तौर पर स्थापित की जाती है। अतः मुहल्लों में सहयोगात्मक तरीके से इनकी पूजा होती है। सभी वर्गों के लोग इसमें शामिल होते हैं।

क्रमशः

Comments

kshama said…
Behad achhee jaankaaree dee aapne..sach, kalakaar ko jaat paat se kya lena dena? Use to apni kala se matlab...kaash aisi misalon ke bare me aur adhik jan jagruti ho!
Dr.R.Ramkumar said…
Ji kshma ji,
AAj aur hamesha hi is tarah ki zaroorat padti rahegi.
Kewal Ram said…
Sunder or jaankari bhari post ke liye dhanyavaad
Sundar aur jaankari se bhara hua lekh ... kala ek satya hai jabki jaat paat insan ka banaya hua jhuth.
Dr.R.Ramkumar said…
Kewal ji,
Indranil ji,

Beshak yehi massage samaj mein jaye, isiliye is khas waqt ko maine chuna--
comments k liye dhanvad...
देर से आने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ पर क्या करें नुकसान तो मेरा ही हुआ है अब आज ही सारी पोस्ट पढने की कोशिश करुँगी
Dr.R.Ramkumar said…
रचना जी,
देर न किया कीजिए। आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहती है।
पर मैं जानता हूं और भी दिलचस्प ब्लाग हंै जहां आपको जाना होता है।
बहरहाल आपने मेरे लिए वक्त निकालकर अपनी अपनी टिप्पणी दी और मुझे उत्साह में डाला इसका हृदयशः धन्यवाद।

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…