Skip to main content

नव वर्ष: किचन के संदर्भ में

किचन में पर्ववत् सन्नाटा है।
मैं चाहता हूं नए वर्ष की सरगर्मी और उत्साह मेरे किचन में भी दिखाई दे।
मैं बार बार किचन में जाता हूं और मिट्टी तेल के पीपे को उलटता पलटता हूं और निराश हो जाता हूं।
मैं जादूगर आनंद या पी सी सरकार होता तो ऐसी निराशा मुझे नहीं होती। मैं एक बार मिट्टी तेल के खाली पीपे को हिलाता और उसे किचन में रखकर बेडरूम में चला जाता। बिस्तर पर पालथी मारकर बीड़ी के चार पांच कश लेता और बुझाकर उसे मिट्टी के एक कुल्हड़ में डाल देता । फिर बड़े इत्मीनान से किचन में घुसता । संजीवकुमार की तरह बांह हिलाकर कमीज की आस्तीनें बिना हाथ लगाए ऊपर सरकाता और झुककर पीपा उठाता । अब पीपा मिट्टी तेल से भरा होता। तालियों की गड़गड़ाहट से किचन भर जाता । ज्यादातर ये तालियां किचन में उपस्थित खाली डिब्बे और पतीलियां , अपने जलने का इंतजार करता स्टोव और केवल बीड़ी पीने के लिए इस्तेमाल की जा रही माचिस की डिबिया ही बजा रही होतीं। किचन में जो मुट्ठी भर भरी भरी सी चीजें होतीं वे अपने आभिजात्य के गर्व में केवल मुंह बनाती या दिखावे के लिए मुस्कुराती। मगर यह तो एक संभावित असंभव कल्पना है। वास्तविकता यह है कि किचन में पूर्ववत् सन्नाटा है।
मैंने फिर सिलिण्डर के नाब को घुमाया और चूल्हे के बर्नर को आन कर लाइटर किटकिटाया। बर्नर ने बिजली विभाग या राजस्व विभाग या किसी भी विभाग के क्लर्क की तरह कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की। मैंने फिर सिलिण्डर को हिलाया । फिर वही क्रियाएं दोहराई। इस बार भी कोई जादू नहीं हुआ। किचन तालियों की गड़गड़ाहट से नहीं भरा। मैं आदतन निराश होकर अपने बेडरूम कम स्टडी कम मीटिंग एंड ईटिंग रूम में लौट आया ।
डिप्रेशन और इन्फीरियटी में इस बार मैंने किसी दोस्त की छूटी हुई सिगरेट की डिबिया उठाई और उसमंे संयोग से उपलब्ध सिगरेट निकाली और गरीबों की प्रतिनिधि माचिस से ही जला ली। दो तीन कश लेने के बाद भी मुझे किचन मायूस और असहाय दिखाई दिया।
मैंने ध्यान बंटाने के लिए फिर टेबिल की मदद ली । टेबिल पर नए वर्ष की ग्रीटिंग तह की हुई रखीं हैं। बस पूरे कमरे में केवल ग्रीटिंग हैं जो करीने से रखीे हैं। बाकी सारी चीजें आम भारतीय नागरिकों की तरह बदहवास मायूस और उखड़ी हुई और अपने खास तेवर के साथ बिखरी हुई बेपरवाह सी पड़ी हुई हैं। मैं उन सब को देखकर आदतन शर्मिंदा हो जाता हूं।
नया वर्ष मेरे कमरे में नहीं आया है। किचन ,कमरे और मुझ कमबख्त में वही पुराने वर्ष की उदासी , खामोशी और बासीपन है।
दर असल सब यथावत है ,सनातन धर्म की तरह। वही रोज़मर्रा की तरह कभी यह नहीं , कभी वह नहीं का सिलसिला। उम्मीदों में जीता हुआ किचन। बदले जाने की कल्पना से अछूता दरवाजे पर लटका हुआ शर्मिंदा पर्दा और तिथियों से बेपरवाह मैं। कैलेण्डर मैंने कभी नहीं खरीदा और मेरी रिस्टवाच में डेट नहीं है। समय मैं दूसरों से पूछता हूं क्योंकि घड़ी के बिगड़ने के बाद मैंने उसे डिस्टर्ब नहीं किया। जैसे बिगड़ने के बाद हम अपने अधिकारी को डिस्टर्ब नहीं करते।
मैं इतवार को भी आफिस जाता हूं और चैकीदार के साथ बीड़ी और चाय पीकर लौट आता हूं। खाना मैं क्यों ,कैसे ,कब ,कहां ,क्या और किसलिए खाता हूं ,मुझे कुछ पता नहीं। तनख्वाह कभी एक तारीख को नहीं मिली। डीडीओ अक्सर एक तारीख को हेडक्वार्टर चला जाता है या बीमार पड़ जाता है। पैसा उसकी जेब से नहीं जाता मगर दस्तखत करने के एकमात्र सुख को वह लम्बा खींचकर नीरस ज़िदगी में रस का संचार करता है।उसके हाथ में हस्ताक्षर एक हेंडग्रेनेड की तरह है जिसे वह अक्सर चमकाता रहता है -‘‘खबरदार सालों ! मुझसे डरो । मेरे हाथ में तुम्हें मजा चखाने के लिए हस्ताक्षर है।’’
हम कुछ नहीं कहते। वह उसका मनोरंजन है। वह प्रशासन का आदमी है। उसके खिलाफ शिकायत करनेपर कोई सुनवाई नहीं होती। इसलिए हम भागयवादी हो गए हैं। चमत्कार का इंतजार करनेवाले नामुराद लोग।
मैंने फिर ग्रीटिंग उठा ली। बहुतों की जिन्दगी ऐसे ही कट रही है। खाली बैठे हैं और एक ही चीज को उठा रहे हैं और रख रहे है।
मैंने ग्रीटिंग उठाई तो मुझे उसमें धड़कन सुनाई दी। ग्रीटिंग को देखता हूं तो लगता है बाकी दुनिया में अभी सांस बाकी है। देखो कितनी बढ़िया ग्रीटिंग इन्होंने भेजी है। कैसे बढ़िया बढिया फूल , कैसे बढ़िया चेहरे , हंसमुंख और खाते पीते से। सोचता हूं ..इनके किचन में मिट्टी तेल तो जरूर होगा । शक्कर और बाकी चीजें भी करीने से रखीं होंगी। इस समय वे चाय पी रहे होंगे।
मैं ग्रीटिंग को देखता हूं और चोर निगाहों से अपने किचन को । मैं धीरे से हाथ बढ़ाकर ग्रीटिंग को छूता हूं और बड़ी उम्मीद के साथ टेबिल की दूसरी तरफ़ पड़े राशन कार्ड को उठाता हूं। मगर उस कमबख्त में नए वर्ष की ग्रीटिंग की तरह हसीन धड़कनें नहीं मिलती। हमेशा बंद रहनेवाली राशन-दूकान की तरह उसके अस्तित्व पर खालीपन पसरा हुआ है।
मैं घबराकर राशन कार्ड को रखकर फिर ग्रीटिंग-कार्ड उठा लेता हूं।
देखता हूं ,किसी को मेरे कुवांरेपन को छूने में मजा आ रहा है। उसने श्रीदेवी की तस्वीर भेजी है। मैं श्रीदेवी की बड़ी बड़ी आंखों में जाने क्या देखता हूं कि अचानक किचन की तरफ देखने लगता हूं। शायद मुझे उम्मीद थी कि तस्वीर से निकलकर श्रीदेवी किचन संभाल रही है और मेरे लिए सबसे पहले एक कप चाय तैयार कर रही है।
मगर अफसोस वैसा नहीं होता । किचन में पूर्ववत् सन्नाटा है।

// अमृतसंदेश ,रायपुर में धारावाहिक प्रकाशित अपने व्यंग्य स्तंभ 'नीरक्षीर' 12 जनवरी 1989 . से .साभार //

Comments

डाक्टर साहब हमेशा की तरह एक बेहद गंभीर विषय और उस पर एकदम सटीक वार वो भी कितने प्यार से श्रीदेवी के बहाने. ये जो आप लोग कभी श्रीदेवी कभी शिल्पा शेट्टी के ख्वाब देखते हैं आप को नहीं मालुम हम पत्नियों के दिल पर क्या गुजरती है .आप के लिए शाएद वो जिंदगी का सबसे बेहतरीन पल हो पर हम तो जाने कितनी मौत मर जाते हैं मुझे लगता है की मुझे अपने पति देव की खबर रखनी पड़ेगी
नव वर्ष पर आप व् आपके परिवार को हार्दिक बधाई
Dr.R.Ramkumar said…
रचनाजी , आपकी टिप्पणी अब मेरी आदत बन गई है। जरूरत कहना ज्यादा सही है। आप बेहद आत्मीयता के साथ ब्लाग पर आती है जो मेरी सार्थकता बन जाती है।
..पर आप कैसे श्रीदेवी और शिल्पाओं से भयभीत हो गई। ज़रा देखिए दोनो पात्र कुंवारे हैं और एक टीवी से परेशान है जो शिल्पा की भव्यता के पीछे पड़ा है और एक को किसी ने ग्रीटिंग भेज दी है । देखिए कितना आहत है आपका प्रिय पात्र
‘‘देखता हूं ,किसी को मेरे कुवांरेपन को छूने में मजा आ रहा है। उसने श्रीदेवी की तस्वीर भेजी है। मैं श्रीदेवी की बड़ी बड़ी आंखों में जाने क्या देखता हूं कि अचानक किचन की तरफ देखने लगता हूं। शायद मुझे उम्मीद थी कि तस्वीर से निकलकर श्रीदेवी किचन संभाल रही है और मेरे लिए सबसे पहले एक कप चाय तैयार कर रही है। ’’
फिर जो लोग खूबसूरत खूंटों से बंधे होते है वो बहुत निरीह और नशे मे होते हैं उनसे भयभीत होने कही आवश्यकता नहीं है। नज़र ऐसे भी रखी जा सकती है प्यार की नज़र। हेरोइन या अफीम की मात्रा का ख्याल रखते हुए।
वेसे बहुत प्यारी है आपकी टिप्पणी। धन्यवाद!




नववर्ष की असंख्य शुभकामनाएं स्वीकारें।
जाते साल के लम्हों को भी गुदगुदा दिया आपने
आने वाले साल में यही सिलसिला बना रहे, इसी कामना के साथ
नये साल की बहुत बहुत मुबारकबाद
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद
आपका लिखा प्रभावित करता है ..शुक्रिया
Dr.R.Ramkumar said…
Shahid Bhai,Ranjana Ranju, Ravi ...
Aapke protsahan ka dhanyavad.
Kabhi kisi rachna par avasyaktanusar lambi bat ki koshish karen.
vaise hello hey bhi sants\osj\h hi deta hai..
Dr.R.Ramkumar said…
Aapki tippaniyan mera manobal hai.

Mitron katipay karno se kuchcha dinon ka net se sambandh khatma ho rahen hain. Yathashakti sampark karne ka prayas zari rakhne ke prayas mein hoon.
Kripya kripa kam y\na karein..
dhanyavad...
देखता हूं ,किसी को मेरे कुवांरेपन को छूने में मजा आ रहा है। उसने श्रीदेवी की तस्वीर भेजी है। मैं श्रीदेवी की बड़ी बड़ी आंखों में जाने क्या देखता हूं कि अचानक किचन की तरफ देखने लगता हूं। शायद मुझे उम्मीद थी कि तस्वीर से निकलकर श्रीदेवी किचन संभाल रही है और मेरे लिए सबसे पहले एक कप चाय तैयार कर रही है।
मगर अफसोस वैसा नहीं होता । किचन में पूर्ववत् सन्नाटा है।
sunder rachna

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…