Skip to main content

दो पहियों का फ़र्क़

जीवन में दो का बहुत महत्त्व है। दो आंखें , दो कान , दो हाथ , दो पैर , दो फैफड़े, दो किडनियां आदि और इत्यादि। जिन्हें ज्ञान की कमी नहीं हैं किन्तु समय की कमी है ,जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें जीवन के सूत्र नहीं मालूम, ऐसे लोगों को टीवी देखकर सीखना चाहिए। उसमें सीरियल से विज्ञापन आते हैं जो टीवी को जीवन दान देते हैं। और अधिक गंभीरता से सोचें तो बीवी को भी जीवन प्रदान करते हैं। बहुत ज्यादा गंभीरता से सोचा जा सके तो यहां भी देखिए कि दो का ही महत्त्व है। टीवी और बीवी। गृहस्थी को वास्तविक गृहस्थी का स्वरूप देने में इन दो का ही योगदान है। दोनों के बिना गृहस्थी एकाकी है। एकाकी का अर्थ ही है कि जो दो नहीं हैं।
बात को आगे बढ़ाने पर हम देखते हैं कि दो और दो चार होते है। चार का भी बहुत महत्त्व है क्योंकि वह दो का दूना है। किन्तु हे भारतीय दर्शक! आज जो दो है , वह सबसे पहले चार था। मनुष्य जिसका अंश है , वह विष्णु या नारायण चार हाथोंवाला दिखाई देता है। ब्रह्मा के चार मुंह थे। जिसके लिए हम मारामारी करते हैं, वह लक्ष्मी चार हाथोंवाली है। वैज्ञानिक बताते हैं कि आदमी भी पहले चार पैरोंवाला था। पूर्वजों के रूप में बंदर को बाप माना जाता है। देखा जाता है कि बंदर के ही गुण हममें ज्यादा हैं। बात बात पर खी खी करना, इस डाल से उस डाल पर बिना मतलब के या किसी खास मतलब के उछलकूद करना ,गुलाटी मारना , चाहे बूढ़े ही क्यों न हो जाएं। बूढे़ शब्द से याद आता है कि दरअसल बात मुझे बूढ़े से ही शुरू करनी थी। परन्तु हे कांच-प्रेमियों! मैं क्या करूं ? वहां भी झगड़ा दो और चार का ही है। उर्दू में चूंकि एक मुहावरा है ‘दो चार होना’ और ‘आंखें चार करना’। मैं दावत देता हूं कि आइये ज़रा उस बूढ़े से हम दो-चार हो लें। आंखें चार करने को कौन कहता है ?
मित्रों! आपने चाहे जिस उम्मीद या मजबूरी में टीवी देखी हो , आपने देखा होगा कि एक कार लाल लाइट जलने से सिगनल के इस पार खड़ी है। सिगनल भी मूलतः दो रंग के होते हैं - लाल और हरा। लाल रंग इस समय है और उसके कारण बहती हुई भीड़ खड़ी हो गई। कार उसी भीड़ का हिस्सा है। उसके बग़ल में आकर एक साइकिल खड़ी हो जाती है। साइकिल पर एक बच्चा है। यह आंकड़ा भी दो का बन गया। दो यानी द्वंद्व। बूढ़ा जिस कार में बैठा है उसके चके हैं चार। बूढे ने चार चीजें ऊपरी तौर पर पहन रखी हैं। सूट , बूट , कमीज और टाई। जो लड़का साइकिल पर है उसके पास दो का आंकड़ा है। साईकिल के दो पहिए , पेंट और शर्ट , जूते और मौजे , दो बांह वाली कमीज की दो बाहें। दोनों वाहें आधी मुड़ी हुई है। एक झलक में इतना ही दिखाई देता है। बूढे की नजर कार के बगल में आकर खड़े लड़के पर पड़ती है तो वह लाल पीला हो जाता है। हिकारत से कहता है-‘‘ आ जाते हैं कहां कहां से।’’ यह हिकारत का सिगनल है जिसमें बुजुर्गों ने दो रंग देखे लाल और पीला।कहते हैं , लाल और हरे को ढंग से मिलाने पर जो रंग बनता है वह पीला होता है। बच्चा उन दोनों रंगों से लाल रंग चुराकर उसे आत्मविश्वास से हरा कर लेता है। वह क्या करता है कि दानों चढ़ी हुई बांहों को तो पहले नीचे करता है। बाहों को चढ़ाना आपने सुना होगा ,यह उसका विलोम है। फिर वह जेब से मोड़कर रखी हुई टाई निकालता है। उसे कमीज़ की गरदन पर टाइट करता है और ठाठ से कहता है:‘‘ सिर्फ दो पहियों का फर्क़ है अंकल ! आ जाइन्गे।’’ इसके साथ ही हरी लाइट जलती है और पैडिल पर पैर मारकर बच्चाशान से चला जाता है। अच्छा लगता है। बांहें उतारकर लोगों को
अपनी शान बघारते तो सैकड़ों बार देखा है, बांह उतारकर शान जताते देखना पहली बार हुआ है। वव्वाह! अरे कांच के पर्दे! कभी कभी ही करते हो मगर तुम कमाल जैसा कुछ करते हो।
मगर दो सवाल हैं , जो खड़े हो गए हैं। जिसके जवाब में तुम ‘सवाल ही नहीं उठता’ नहीं कह सकते। क्योंकि ये तो खड़े हो ही गये। पहला , दो चक्के आएंगे कहां से ? दूसरा , आ ही गये तो उन्हें साईकिल में कैसे लगाया जाएगा ? जोश-जोश में क्या तुमने कुछ ज्यादा ही आत्मविश्वास नहीं फेंक दिया ?
मेरे अनुभव में सीधे रास्ते और केवल आत्मविश्वास के बल पर ऐसा तो आज तक घटित नहीं हुआ। जिस चीज़ का यह विज्ञापन है वह सफाई से ताल्लुक रखनेवाला प्रडक्ट है। इसीलिए इतनी सफाई से दो को वह चार बना गया। फिर तो उसे पांच भी कर देना था। मैंने यह गणित भी कांच के रंगीन पर्दे पर घटित होते देखा है। दो और दो पांच। इस नाम से बनी फिल्म में दो हीरो दो हीरोइन थे। पांचवा एक बच्चा था जिसके आसपास कहानी हास्य बुनती रहती है।
यह बच्चा भी हास्य कर रहा है। आजकल हास्य प्रधान विज्ञापन बनाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया जा रहा है। कीड़े मारने की दवा में दो-चार कीड़े जरूर छोड़ दिए जाते हैं। टेन परसेन्ट का बिजनेस है। अगर जनता को हण्ड्रेड परसेन्ट फायदा हो जाए तो बिजनेस ढप्प हो जाए। बीपी की दवा रोज लेनी पड़ती है। अस्थमा का मरीज रोज इन्हेलर लेता है।
तो मान लेते हैं कि डिटरर्जेन्ट वाले जल्दी दो से चार चके बना लेंगे। डी कंपनी के नाम से जो मशहूर है वह शायद यही डिटर्जेन्ट कंपनी का शार्ट फार्म होगा, जिसमें हाथ हिलाते ही पैसा बरसने लगता है। डिटर्जेन्ट का उपयोग करने वाले तो मलते रहते हैं ..डिटर्जैन्ट मिलाते रहतें हैं, हाथ मलते रहते हैं। धन्धा होता ही ऐसा है। दो के चार न किए तो फायदा ही क्या। वह बच्चा डिटरजेन्ट कम्पनी का होगा। आज अभी धन्धा शुरू किया है। बस कार आने में कितना समय लगता है। इधर जनता बैठी है तैयार कि तुमने विज्ञापन दिखाया और उसने प्रडक्ट खरीदा। हो गए मालामाल। बढ़िया है , अरे कांच के पर्दे ! बढ़िया है।

Comments

आपका लेख हमेशा ही बहुत सार्थक होता है .बधाई
बहुत पैनी नज़र है आपकी चाहें कांच का पर्दा हो या फिर ब्लॉग पर पोस्ट .हर चीज का बारीक अध्ययन करके बेमिसाल टिप्पणी लिख कर पोस्ट की सार्थकता पर आखिरी मुहर लगा देते हैं
मार्मिक पोस्ट पर उससे भी ज्यादा मार्मिक टिप्पणी लिख कर दुखती रग हर बार छेड़ देते हैं
आभार
Dr.R.Ramkumar said…
रचना जी ! रचना को वास्तव में सार्थक टिप्पणी ही सार्थक बनाती है। आपकी टिप्पणी हमेशा जिम्मेदार टिप्पणी होती है जो मुझे अभिभूत करती है।
और भी मित्र हैं जो आपकी तरह मेरी पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़ते हैं और सार्थक टिप्पणी करते हैं।

आपका और सभी मित्रों का हार्दिक आभार।
अच्छा लिखा है आपने ..आज कल की दुनिया है यह कांच के परदे सी शुक्रिया
कांच के पर्दे के बहाने काफ़ी कुछ कह गये हैं आप...
हमेशा की तरह बेहतर...
Dr.R.Ramkumar said…
रंजनाजी पहली बार आप मेरे ब्लाग पर आई हैं आपका स्वागत । और टिप्पणी के लिए आभार।
रवि भाई! ब्लाग में आने का सुख आपकी टिप्पणी से बढ़ जाता है। आते रहना याद रखें।

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…