Skip to main content

कलाकार के हाथ

ब्रह्मा नाम है कलाकार का। कलाकार लकड़ी का काम करता है। फर्नीचर-रैक-अल्मीरा.....और दूसरे भी लकड़ी के इन्टीरियल-डेकोरेटिव काम करता है। प्लाईवुड का काम ज्यादा है इन दिनों। वह आसानी से मिलता है और यह काष्ठकर्मी उनसे मनचाहा व्यवहार कर सकता है। मनचाहे रूप दे सकता है। सागौन अब भी उपयोग में आता है, मगर वह नम्बर दो में है; क्योंकि उसका काम नम्बर दो में होता है। सागौन माफिया आपकी चाही हुई मात्रा में रात में चोरी की लकड़ी आपके घरों में बाकायदा चोरी की मर्यादाओं और आचार संहिताओं को पालता हुआ पटक जाएगा। ताकि चोरी का भ्रम बना रहे। दूसरे- तीसरे दिन वनरक्षक या वन विभाग का कोई कर्मी आपसे पूछेगा कि इस तरफ लगभग इतना माल आया है। क्या आप बता सकते हैं किसके यहां आया है ?
दरअसल वनकर्मी को पता रहता है कि कितना माल कब और कहां जाना चाहता है। चोर उनसे पूछकर ही चोरी छिपे का लिहाज रखते हुए काम करते हंै। आपने सुना होगा कि एक चड्डी गिरोह है। वह चोरी के लिए , डाका के लिए घरों में घुसता है। घरस्वामी हुज्जत किए बिना माल दे देना चाहता भी है तो वे धुनाई करते हैं। बाद में माफी मांगते हुए माल लेकर जाते-जाते कहते हैं-‘‘ माफ करना , बिना मेहनत की कमाई हमारे डाकाशास्त्र’ में हराम है।’’ सागौन चोरों के लिए भी चोरी का वातावरण बनाए बिना लकड़ी चुराना हराम है। वनकर्मी ही चोरांे के वास्तविक ठेकेदार होते हैं। अब आप अपनी पोजीशन के हिसाब से बात संभाल लेते हैं। दरअसल बात होती ही इसलिए है कि संभल जाए । काम में रिस्क होती है ,संभलकर चलने की सलाहें दी जाती हैं और बातें जो हैं कि संभलती रहती हंैऔर सारा काम कायदे से चलते रहता है।
मेरा नगर सागौनपुर या सगुणनगर है। सागौन या सागवान जिसे कहा जाता है, मुझे लगता है वह ‘सगुन’ शब्द से बना होगा। सगुण शब्द सागौन की गुणवत्ता की रक्षा करता है और उसके सम्पूर्ण कृतित्व और व्यक्तित्व को उजागर करता है। सागौन गुणवानांे की पहली पसंद है। इसलिए मैं सागौन को सगुण कहता हूं। इस नगर को सगुणनगर कहता हूं। यहां वही इज्जतदार आदमी है जिसके पास सारा फर्नीचर, दरवाजे खिड़कियां नम्बर दो की सागौन का है। आसपास सगुण-सागौन का सैकड़ों मील फैला घना जंगल है। फलस्वरूप ज्यादातर लोग यहां इज्जतदार हंै। लगभग सेंटपरसेंट। एक दो परसेंट वो लोग हैं जो सिद्धांतों की भूलभुलैया में परिस्थितिवश पड़े हुए हैं। जैसे कि गुरुदेव सामरिया। गुरु सामरिया मेरे घर के सामने रहते हैं। मेरी तरह वे भी सिद्धांतों की भूलभुलैया में घिरे हुए हैं। इसलिए सिद्धांतों के कारण जब वे परिस्थियों से पिटते है तो मैं उन्हें सान्त्वना देता हूं और कहता हूं-‘‘ सत्य परेशान तो हो सकता है मगर पराजित नहीं हो सकता।’’ यही बात वे मुझे कहते हंै जब मै परिस्थियों से सिद्धांत नामक आत्मज के कारण पिट जाता हूं। हम दोनों एक दूसरे के राहत केन्द्र हंै। प्रायः रोज ही हमें राहत की जरूरत पड़ती है और रोज ही हम एक दूसरे को वह ‘परेशानी और परास्त’ का सिद्धांत ,सूत्र या काढ़ा पिलाते रहते हैं। लोग समझते हैं कि हम दोनों में जमती है। इसीलिए किसी ने कहा है-‘‘खूब गुजरेगी जो मिल बैठेंगे दीवाने दो।’’
काष्ठकर्मी ब्रह्मा उनके घर में काट-छांट, ठुकाई-पिटाई कर रहा है। सामरिया गुरु भी अपनी अंटी को संभालते हुए उसके आसपास ही लगे हुए हैं। जैसा कि ऐसे मामलों में होता है ,मुझसे रहा नहीें जाता। मैं जानबूझकर किया गया नमस्कार उनसे करता हूं और सर्वर मिलते ही कहता हूं , ‘‘ गुरुदेव! क्या आप भी नगर की इज्जतदार परम्परा से जुड़े जा रहे हैं।’’
वे सान्त्वनेय होकर कहते हैं ,‘‘नहीं आदरणीय, पलंग ढीला हो गया था, दीवान का प्लाई घुन गया था , वही ठीक करा रहा हूं। यानी वही अपनी सीमाओं की रिपेयरिंग चल रही है। नगर के सभी लोग गणमान्य हो जाएंगे तो भगवान की नैया कौन चलाएगा ?’’मैं जोर से हंस पड़ा और बोला ,‘‘ मैं तो घबरा गया था कि आप भी साथ छोड़कर चले....’’
वे सान्त्वना के मूड में आ गए और बोले ,‘‘ नहीं नहीं कैसी बात करते हैं.... उधर भी साथ ही चलूंगा।’’
मैं आश्वस्त हो गया। यही तो मैं होना चाहता था। उधर , वहां और उस तरफ का ख्याल बना रहता है। हम दोनांे इन शब्दों के मतलब समझते हंै और वेदरक्षा करते हैं।
अचानक दोपहर में जब पढ़ने आए बच्चों को मैं निपटा रहा था तभी गुरुदेव के घर से लगभग झगड़ने जैसी आहट आयी। मैं राहत की थैली सम्हालते हुए दौड़ा। किस्सा-ए-मुख्तसर यह कि कलाकार कुछ कलाकारी करना चाहता था। पाए और प्लाई में कुछ नयी डिजाइनें डालना चाहता था और इसके लिए उसे नये सिरे से सामान चाहिए थे जो उससे जुड़े हुए प्लाई-विक्रेता के यहां ही मिल सकते थे। गुरुजी कला के विरोधी नहीं है और कलाकारों का बहुत सम्मान करते हैं लेकिन उनकी मजबूरी यह है कि कला सिर्फ कला के लिए है और अपने बजट में वे उसे दखलंदाजी की छूट प्रदान नहीं कर सकते। मंदिर की आरती में जाकर वे शामिल हो सकते है ंमगर घर में मुर्ती स्थापित करने के वे पक्ष में नहीं हो सकते। वे भड़क गए थे। मै जब पहुंचा तो वे कह रहे थे -‘‘ भाई ब्रह्मा! तुम बहुत ऊंचे कलाकार हो ,तुम्हारा काम बहुत ऊंचा है, मैं तुम्हारे काम की प्रशंसा करता हूं। मगर तुम समझते क्यों नहीं कि तुम इस नगर के नगरसेठों के यहां काम नहीं कर रहे हो। तुम एक गुरुजी के यहां काम कर रहे हो। तुम उस ऊंचाई में जाकर मुझे क्यों पुकार रहे हो ? मैं नहीं चढ़ पाउंगा भगवन! मुझे माफ करो। और फिर इस पलंग पर मुझे सोना है, मुझे ... मुझे। किसी ऐश्वर्या राय या अमिताभ बच्चन को नहीं। हम आम आदमी की भूमिका नहीं कर रहे हैं , आम आदमी हैं। इसलिए इसे केवल पलंग बनाओ , अजंता और ऐलोरा है हिन्दोस्तान में।’’
काष्टकर्मी ब्रह्मा मुंह बाए गुरुजी का मुंह देख रहा था। पता नहीं वह उनकी बात समझ भी रहा था या नहीं मगर इतना जरूर समझ रहा था कि गुरुजी का बजट बिगड़ रहा है। मैंने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए कहा-‘‘ जैसा कहते हैं वैसा ही बनाओ , कला को कहीं और के लिए सुरक्षित रखो।’’ ब्रह्मा ने थूक निगलकर सिर हिला दिया और ठोंक-पीट करने लगा। मगर उसका उत्साह धीमा पड़ गया था। गुरुजी ने उसके हाथ काट दिए थे। ये वो हाथ थे जो कला को तो आकार देना ही चाहते थे मगर गुरुजी की अंटी को भी क्षतिग्रस्त करना चाहते थे। जानबूझकर नहीं अनजाने में। कलाकार तो अपनी धुन में काम करता है। वह बजट की परवाह नहीं करता। क्यांेकि उसे काम का पैसा समय के हिसाब से मिल रहा है। बजट सामनेवाले का बढ़ रहा है। काष्टकर्मी का बजट बन रहा है। उसकी कला पेट के लिए थी। गुरुजी पेट काटकर काम करा रहे थे। उनका वश चलता तो खुद ही पलंग सुधार लेते। मगर पलंग बिना कारीगर या काष्टकलाकार के सुधरते ही नहीं। मजबूरी में उन्होंने बढ़ई को बुलवाया था।
खैर कला ने बजट के साथ समझौता कर लिया था। गुरुजी ने कहा, ‘‘आपको चाय पिलवाऊं आदरणीय’’ और बिना उत्तर ग्रहण किण् वे अंदर चले गए। उनके अंदर जाते ही कलाकार का दर्द मेरे सामने फूट पड़ा-‘‘ गुरुजी बेकार नाराज हो रहे हैं... ऐसा काम कर के देता कि लोग देखते और पूछते किसने किया.. मगर क्या करूं...मेरे तो हाथ कट गए..’’
मैंने कहा -‘‘ तुमको पता है कि पहले क्या होता था...ताजमहल बनते थे , कलाकार अपनी पूरी कला उसमें उड़ेल देते थे.. उन्हें राजा मुंहमांगा पैसा भी देते थे और ईनाम भी देते थे। मगर उनके हाथ काट लेते थे ताकि वैसी कला वह और कहीं दिखा ना पाए। तुम शुक्र करो कि तुम्हारे हाथ सलामत हैं, तुम्हारी कला बची हुई है। कहीं और उसका इस्तेमाल कर लेना।’’
मगर कलाकार का मन खिला नहीं। वह अब एक आम बढ़ई की तरह ठोंक पीट कर रहा था।

Comments

Nirmla Kapila said…
कलाकार साहित्यकार या कोई भी किसी तरह का कारीगर है सब का बाज़ार्वाद मे दोहन हो रहा है। उसे पेट भरने के लिये भी कितनी कडी मेहनत के बाद दो वक्त की रोटी नसीब नहीं उसकी कला या काम की सराहना तो दूर की बात है। कथा के माध्यम से सुन्दर व्यंग है समाज पर आभर aaदीपावली की शुभकामनायें
गज़ब विषय........गज़ब आलेख..

अभिनन्दन !

आपको और आपके परिवारजन को
दीपोत्सव की हार्दिक बधाइयां
एवं मंगल कामनायें.......
Dr.R.Ramkumar said…
निर्मलाजी ,
बहुत बहुत धन्यवाद और स्वागत आपका । बेहद गंभीरता से आपने आलेख को पढ़ा और गंभीर प्रतिक्रिया दी। इसी तरह विचारविमर्श के द्वार खंलं रखें।
अलबेला जी कहां खो गए थे आप। चलिए स्वदेश आप लौटे। आप अब सूनापन देर करेगे।

दीपावली की आप दोनों को असंख्य शुभकामनाएं।

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…