Skip to main content

दो अपेक्षित कविताएं



 दो अपेक्षित कविताएं

कविता : 1

--------

उठो देवता!

उठो देवता!
विषधर सहसफनों के नीचे रहकर
सुखी न समझो, छोड़ो यह विश्राम
कोलाहल है बहुत
समुद्री इन लहरों में
लहरें,
यही इकाई हैं
सागर के विस्तृत फैलावों की
देख रही हैं रोज़
अंदर अंदर क्या चलता है
मधुआरे का जाल बड़ा होता जाता है
बड़ी मछलियां जैसे उसकी हैं बिचौलिया
जो मछली जालों से बचकर दूर निकलती
बड़ी मछलियां जो दलाल हैं मछुआरे की
उस पर हमला कर देती हैं

उठो देवता!
सागर का कोलाहल भुगतो
अपना भी अब पक्ष बताओ
बोलो किसके साथ खड़े हो
दुष्टों के, मध्यस्थों के या
कुटनीतियाँ झेल रहे साधारण जन के?

उठो देवता!
कहा था तुमने
सज्जन जब जब पीर सहेगा
उल्टे सीधे मनमाने नियमों के आगे
सर न झुकेगा
समझदार भुक्तभोगी का
उसका आकर त्रास हरोगे

उठो देवता!
कहा था तुमने
खलजन का तुम शमन करोगे
नीतिवान को मुक्त करोगे सारे दुख से
वचन निभाओ
फिर पवित्र तुलसी को ब्याहो

उठो देवता!
कोलाहल को शांति बनाओ!

(१५.११.२०२१, ११.११ प्रातः)
०००

0
कविता : 2

कुछ कर दिखाओ!

*
साहस का जुआ खेलो,
जान की बाज़ी लगाओ,
देखो मत किनारे पर खड़े रहकर
तेज़ धार में बहते हुए बेसुध लोगों को
उन्हें उठाओ, जान बचाओ
कुछ कर दिखाओ!

हर बार पश्चिम से आती
विक्षिप्त हवाएं
नुकसान पहुँचाती हैं
पहले तम्बू लगाती हैं और फिर
तुम्हारे मकानों की नीवें उखाड़ जाती हैं।

कुछ धाराएं जो सींचती हैं
किनारे के खेतों को और
तृप्त करती हैं मुरझाती प्यास को
उस पर बन्ध जाते हैं बांध
अपने हिस्से की फसलें उगाने और
कारखाने के जहर को पकाने के लिए
किसके हित में कितनों के हितों की बलि चढ़ती है
बहुमत की बन्दूकें नहीं जानतीं
वे वर्ग और जातिविहीन
लोहे में तबदील
संवेदनहीन अर्गलायें हैं
जिसमें जनता के ख़ून से लथफत
कपड़े टँगे है
बोधविहीन शौर्य के
हर आततायी
जीवित प्राणों को अभिषिक्त करता है
कि वे  आतंक के अंधे औजारों में ढल जाएं
ताकि अपनों के सीने फाड़ते हुए
पिघल न जाएं

विरोध की तलवारें
कहां और कैसे ढालोगे
इस पर ज़ोर लगाओ
कुछ कर दिखाओ!
*
१५.११.२१, १२.४० मध्यान्ह।

*
डॉ. रा. रा. कुमार,

प्रतीकात्मक पता :  
'नियति निवास',
कोलाहल कौशाम्बी रणारण्य, नव्यग्राम, ज़िला : बलात्घात :




Comments

आपके द्वारा लिखा गया आर्टिकल बहुत ही हाउसफुल है और लोगों को बहुत ही ज्ञानवर्धक एवं रोचक लगता है. वास्तव में इंटरनेट पर सर्च करते ही आपका आर्टिकल बहुत ही रोचक जानकारी के साथ इंटरनेट पर फैलाव कर रहा है. लेकिन इसमें सबसे अच्छी खासियत है किसके कंटेंट ओं क्वालिटी बेहतरीन है ठीक उतार-चढ़ाव इंटरनेट पर होता रहता है जैसे मैं कुछ उदाहरण आपके साथ साझा कर रहा हूं.

दोस्तों ऐसा देखा जाता है कि आम जिंदगी में लोगों के उतार-चढ़ाव होता है. कभी सुख कभी दुख, कभी हंसी कभी खुशी, कभी हार कभी जीत, पता नहीं यह संसार का एक ऐसा नियम है? इस पर कोई भी पोजीशन निश्चित नहीं रहती है. कभी नीचे, कभी ऊपर, कभी नीचे, ऐसी घटना चक्र मानव जीवन का चलता रहता है.

चाहे हमारी संस्कृति के साथ हो, चाहे हमारे रीति रिवाज के साथ हो, चाहे हमारी अर्थव्यवस्था के साथ, अर्थव्यवस्था तो और भी ऐसा होता है कि कभी नीचे, कभी ऊपर, ठीक इसी प्रकार से आप पर, यदि इंटरनेट पर काम करते हो गूगल पर ब्लॉगिंग के माध्यम से काम करते हो, तो उसमें भी आपका कीवर्ड कभी नीचे कभी ऊपर, उदाहरण के तौर पर मैं कुछ जानकारी आपके साथ शेयर कर रहा हूं, जैसे पोर्न क्या होता है यह जानकारी पढ़ने योग्य है लेकिन इस पर भी उतार-चढ़ाव होता है

इंटरनेट पर उतार-चढ़ाव

जैसे मेरा एक कीबोर्ड है 2- रोल नंबर सर्च यूपी बोर्ड , एस कीवर्ड को लोग पहले बहुत ज्यादा सर्च करते थे. लेकिन हाल में कुछ कम हुए हैं और कभी ऊपर कभी नीचे, ऐसे तमाम प्रकार के सर्चस होते रहते हैं. ठीक उसी प्रकार से जैसे मेरे जीवनसाथी का नाम क्या है? जी हां जीवन साथी का नाम भी एक लोग सर्च करते हैं.

वह वास्तव में हमारा जीवन साथी का नाम हमारे होठों पर रहना चाहिए, और जैसे कि जब भी कोई बच्चा जन्म लेता है तो उसका नामकरण लोग करते हैं और इंटरनेट पर यह जानकारी सर्च करते हैं. आज जन्मे बच्चे का नाम क्या रखें? जन्मे बच्चे का नाम रखें?

ठीक उसी प्रकार से यदि खेतीवाड़ी से संबंधित जानकारी अर्जित करना चाहते हो, जैसे कि पंजीयन कैसे करें कैसे नहीं करें और विशेषकर लॉटरी सिस्टम भी ऐसा ही होता है कि आज के सट्टे का नंबर क्या है? क्या आज हमारे लिए नंबर लकी हो सकता है कौन सा नहीं हो सकता है ठीक इसी प्रकार से हमारे जीवन में उतार-चढ़ाव होता रहता है.
Dr.R.Ramkumar said…
अच्छी जानकारी है।

Popular posts from this blog

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’ कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’ सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’ कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’ खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी। दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया।

सूप बोले तो बोले छलनी भी..

सूप बुहारे, तौले, झाड़े चलनी झर-झर बोले। साहूकारों में आये तो चोर बहुत मुंह खोले। एक कहावत है, 'लोक-उक्ति' है (लोकोक्ति) - 'सूप बोले तो बोले, चलनी बोले जिसमें सौ छेद।' ऊपर की पंक्तियां इसी लोकोक्ति का भावानुवाद है। ऊपर की कविता बहुत साफ है और चोर के दृष्टांत से उसे और स्पष्ट कर दिया गया है। कविता कहती है कि सूप बोलता है क्योंकि वह झाड़-बुहार करता है। करता है तो बोलता है। चलनी तो जबरदस्ती मुंह खोलती है। कुछ ग्रहण करती तो नहीं जो भी सुना-समझा उसे झर-झर झार दिया ... खाली मुंह चल रहा है..झर-झर, झरर-झरर. बेमतलब मुंह चलाने के कारण ही उसका नाम चलनी पड़ा होगा। कुछ उसे छलनी कहते है.. शायद उसके इस व्यर्थ पाखंड के कारण, छल के कारण। काम में ऊपरी तौर पर दोनों में समानता है। सूप (सं - शूर्प) का काम है अनाज रहने देना और कचरा बाहर निकाल फेंकना। कुछ भारी कंकड़ पत्थर हों तो निकास की तरफ उन्हें खिसका देना ताकि कुशल-ग्रहणी उसे अपनी अनुभवी हथेलियों से सकेलकर साफ़ कर दे। चलनी उर्फ छलनी का पाखंड यह है कि वह अपने छेद के आकारानुसार कंकड़ भी निकाल दे और अगर उस आकार का अनाज हो तो उसे भी नि

मंत्र : आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -  मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या: -डाॅ. रा. रामकुमार, प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते। यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखे और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है। भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्ग