Skip to main content

तेरा दिल या मेरा दिल


 पाठकीय किंवा पठनीय

               

कुछ मामलों में आचार संहिताएं काम नहीं करती। जैसे मामला ए प्रेम या फिर वारदाते भोगविलास, या फिर माले मुफ्त और दिले बेरहम। सारा कुसूर दिल का है। कवि शैलेन्द्र ने स्पष्टतः कहा है- दिल जो भी कहेगा मानेंगे, दुनिया में हमारा दिल ही तो है। समकालीन युग में प्रेम और श्रृंगार के स्टार-कवि के रूप में आत्म-ख्यात कुमार विश्वास ने भी उनके स्वर में स्वर मिलाकर गया है-
कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है।
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है।
मैं तुझसे दूर हूं कैसा, तू मुझसे दूर है कैसी-
ये मेरा दिल समझता है या तेरा दिल समझता है।
ये पेशे से प्रोफेसर हैं। इनकी इन पंक्तियों ने इन्हें रातों रात स्टार कवि बना दिया। मंचीय कवियों के इतिहास में यह एक क्रांतिकारी के रूप में उभरे जिसने मानदेय के सारे रिकार्ड तोड़ दिये। नीरज तक नीरस हो गए। इसके पीछे कारण मात्र दिल का है। लाखों युवाओं के दिल की बात इन्होंने कह दी। अब हंगामा तो होना ही था जैसा बिहार के प्रोफेसर के समय हुआ। उन्होंने ग़ालिब के प्रसिद्ध ‘प्रमेय’  ‘‘इश्क पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब, कि जलाए न बने और बुझाए ना बने.’’ को प्रायोगिक तौर पर सिद्ध करते हुए अपनी एक सुन्दर शिष्या के साथ बुढ़ापे में प्रेम विवाह कर लिया।
सारे सामाजिक हिन्दुस्तान में हंगामा हो गया। एक प्रोफेसर को यह शोभा नहीं देता। यानी ऐसे मामले शोभा तो देते हैं मगर एक प्रोफेसर को नहीं। प्रोफेसर तो समाज को मार्ग दिखानवाली मोमबत्ती है। किसी ने यह भी कहा है कि शिक्षक वह मोमबत्ती है जो दोनों सिरे से जलती है। उसे जल जलकर मिट जाना चाहिए। बुझकर बचने का उपाय उसके लिए निन्दा का कारण बनता है।
कुमार विश्वास ने हंगामे के बाद भी उनके दर्द पर मरहम बनकर एक और मुक्तक कहा।उनका आशय यह था कि शिक्षक भी इंसान है सिर्फ राजनेता नहीं।
राजनीति में ऐसा है कि कवि जगनिक के अनुसार ‘जेहि कि बेटी सुन्दर देखी तेहि पर जाय धरी तरवार।’
ताजा उदाहरण देख लीजिए। एक राजा राजनीतिक ने सत्तर के आसपास पहुंचे अपने विधुर दिल के कहने पर उम्र के चैथे दशक को छूती हुई जर्नलिस्ट से प्रेम कर लिया। चलता है। उनके दल के ही एक हेण्डसम मंत्री ने जीवित और सुन्दर पत्नी के होते हुए एक सुन्दर पाकिस्तानी जर्नलिस्ट से संबंध बनाकर अपने दिल की सुनी। दिल की सुनना चाहिए यही तो हमारे बुजुर्ग कहते हैं। एक जर्नलिस्ट की पिछले दिनों दिल्ली में हत्या हुई जिसका संबंध एक राजनीतिक से था। भंवरी बाई नामक एक नर्स की लाश तक नहीं मिली क्योंकि वह कुर्सी के लिए खतरा थी।
दिल के मामले में इन दिनों राजनीति सबसे आगे है। जिधर भी दृष्टि उठाइये राजनीति में आपको प्रेम संबंधों की बहार दिखेगी। केन्द्र का वर्तमान भी इन्हीं सुवर्ण पथों से होकर आया है। कहीं कहीं तो यह वंश-परंपरा के रूप में है। राजा महाराजाओं में यही चलता था। अकबर जोधा सीरियल और फिल्म देखिए। प्रेम ने दो देशों की दूरियां कम की हैं। इतिहास गवाह है और वर्तमान उसका अनुसरण कर रहा है। अंग्रेजी कहावत है कि रोम रातोरात नहीं बनता। भारत भी रातों रात नहीं बना। पिछले सड़सठ साल लगे हैं उसे बनने में। प्रेम से बनने में। ब्रिटिश से भारत होने के लिए प्रेम ही काम आया।
राजा ने तो प्रेम के लिए मध्यप्रदेश से केवल उत्तरप्रदेश तक की यात्रा की है। भोपाल से दिल्ली जाने पर बीच में उत्तर प्रदेश पड़ता है। शरीर के मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच में दिल पड़ता है। अब कोई क्या करे?
आचार संहिता चल रही है और संबंधित लोग कह रहे हैं कि यह व्यक्तिगत मामला है इस पर नहीं बोलना चाहिए। ‘जनप्रतिनिधि व्यक्तिगत होता है’ यह अब पता चल रहा है। रायबरेली में तो एक परिवार बोल रहा है कि वे जनता की आवाज हैं, उनका कुछ भी व्यक्तिगत नहीं। राजनीति भी बहुत जटिल चीज है भाई। कौन मगज मारी करे। करने दो जिसका जो दिल कहे। वैसे भी प्रेम की कोई आचार संहिता नहीं होती। कहते भी हैं ‘एवरी थिंग इज फेअर, इन वार एण्ड लव।’
शनि, प्रातः, 3.5.14

Comments

Popular posts from this blog

‘मंत्र’: आदमी और सांप के किरदार

प्रेमचंद जयंती(31 जुलाई) पर विशेष -
 मुंशी  प्रेमचंद की कहानी ‘मंत्र’ की आख्या:

-डाॅ. रा. रामकुमार,

प्रेमचंद की ‘मंत्र’ कहानी दो वर्गों की कहानी है। ये दो वर्ग हैं ऊंच नीच, अमीर गरीब, दीन सबल, सभ्य और असभ्य। ‘मंत्र’ दोनों के चरित्र और चिन्तन, विचार और सुविधा, कठोरता और तरलता के द्वंद्वात्मकता का चरित्र-चित्रण है। मोटे तौर पर देखने पर यह कहानी ‘मनुष्य और सांप’ के दो वर्ग की भी कहानी है। अजीब बात हैं कि मनुष्य अपनों में सांप बहुतायत से देख लेता है किन्तु सांपों को मनुष्य दिखाई नहीं देते।
यद्यपि प्रेमचंद अपनी कथाओं में समाज का यथार्थ चित्रण करते थे किन्तु उनका उद्देश्य आदर्शमूलक था। उनकी सभी कहानियां समाज के द्वंद्वात्मक वर्गों का व्यापक चित्र प्रस्तुत करती हैं। अच्छे और बुरे, अमीर और गरीब, ऊंच और नीच, पढे-लिखें और अनपढ़, ग्रामीण और शहरी, उद्योगपति और मजदूर। स्थूल रूप से भारत का समाज ऐसे जितने भी वर्गों में विभाजित है और उसमें जितनी भी विद्रूपताएं हैं, उनका वर्णन संपूर्ण व्याप्ति और पूर्णता के साथ प्रेमचंद की कथाओं में मिलता है।
भारत वर्गों का नही जातियों का देश है। यहां वर्गों का विभाजन अकल…

चुहिया बनाम छछूंदर

डायरी 24.7.10

कल रात एक मोटे चूहे का एनकाउंटर किया। मारा नहीं ,बदहवास करके बाहर का रास्ता खोल दिया ताकि वह सुरक्षित जा सके।
हमारी यही परम्परा है। हम मानवीयता की दृष्टि से दुश्मनों को या अपराधियों को लानत मलामत करके बाहर जाने का सुरक्षित रास्ता दिखा देते हैं। बहुत ही शातिर हुआ तो देश निकाला दे देते हैं। आतंकवादियों तक को हम कहते हैं कि जाओ , अब दुबारा मत आना। इस तरह की शैली को आजकल ‘समझौता एक्सप्रेस’ कहा जाता है। मैंने चूहे को इसी एक्सप्रेस में बाहर भेज दिया और कहा कि नापाक ! अब दुबारा मेरे घर में मत घुसना। क्या करें , इतनी कठोरता भी हम नहीं बरतते यानी उसे घर से नहीं निकालते अगर वह केवल मटर गस्ती करता और हमारा मनोरंजन करता रहता। अगर वह सब्जियों के उतारे हुए छिलके कुतरता या उसके लिए डाले गए रोटी के टुकड़े खाकर संतुष्ट हो जाता। मगर वह तो कपड़े तक कुतरने लगा था जिसमें कोई स्वाद नहीं होता ना ही कोई विटामिन या प्रोटीन ही होता। अब ये तो कोई शराफत नहीं थी! जिस घर में रह रहे हो उसी में छेद कर रहे हो!? आखि़र तुम चूहे हो ,कोई आदमी थोड़े ही हो। चूहे को ऐसा करना शोभा नहीं देता।
हालांकि शुरू शुरू में…

काग के भाग बड़े सजनी

पितृपक्ष में रसखान रोते हुए मिले। सजनी ने पूछा -‘क्यों रोते हो हे कवि!’
कवि ने कहा:‘ सजनी पितृ पक्ष लग गया है। एक बेसहारा चैनल ने पितृ पक्ष में कौवे की सराहना करते हुए एक पद की पंक्ति गलत सलत उठायी है कि कागा के भाग बड़े, कृश्न के हाथ से रोटी ले गया।’
सजनी ने हंसकर कहा-‘ यह तो तुम्हारी ही कविता का अंश है। जरा तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया है बस। तुम्हें खुश होना चाहिए । तुम तो रो रहे हो।’
कवि ने एक हिचकी लेकर कहा-‘ रोने की ही बात है ,हे सजनी! तोड़मोड़कर पेश करते तो उतनी बुरी बात नहीं है। कहते हैं यह कविता सूरदास ने लिखी है। एक कवि को अपनी कविता दूसरे के नाम से लगी देखकर रोना नहीं आएगा ? इन दिनों बाबरी-रामभूमि की संवेदनशीलता चल रही है। तो क्या जानबूझकर रसखान को खान मानकर वल्लभी सूरदास का नाम लगा दिया है। मनसे की तर्ज पर..?’
खिलखिलाकर हंस पड़ी सजनी-‘ भारतीय राजनीति की मार मध्यकाल तक चली गई कविराज ?’ फिर उसने अपने आंचल से कवि रसखान की आंखों से आंसू पोंछे और ढांढस बंधाने लगी।
दृष्य में अंतरंगता को बढ़ते देख मैं एक शरीफ आदमी की तरह आगे बढ़ गया। मेरे साथ रसखान का कौवा भी कांव कांव करता चला आया। मैंने द…